वो अभागे‬ बच्चें - जिनके पास किसी ‪धर्म‬, ‪जाति‬, ‪‎दलित‬ होने के ‪सर्टिफिकेट‬ नहीं!


अक्सर लोगों को सड़क पर बच्चों को ‪#‎भीख‬ देते हुए देखा है, या उनसे कहते हुए सुना है कि वो ‪#‎अभागे‬ बच्चें हैं, किसी ‪#‎धर्म‬, ‪#‎जाति‬, ‪#‎दलित‬ होने के उनके पास ‪#‎सर्टिफिकेट‬ नहीं!

कुछ लोग अपना ‪#‎भाग्य‬ ठीक करने के लिए और भाव दिखने के लिए ‪#‎पैसे‬ दे देतें हैं या तो ‪#‎झिड़क‬ कर भगा देते हैं. क्या ऎसा करना सही हॆ? अगर आप ने उन बच्चों को कुछ चेंज पैसे दे दिए तो उन्हें भीख मांगने का बढावा देते हैं और यदि फटकार लगा कर भगा देते हैं तो ‪#‎समाज‬ में ‪#‎क्रिमिनल‬ पैदा करने में अनजाने रूप में अपना साथ देते हैं..


अगर आप सच मॆ ऎसे बच्चों कि मदद करना चाहते हैं तो बच्चों को पैसे बिल्कुल न दे, आप मदद करें पर सही तरीके से, आप इन बच्चों को खाना, कपडा, शिक्षा दे सकते हैं या दिलवा सकते हैं, बस आप अपने नजदीक ऎसी संस्था को कांटेक्ट करें जो इन ‪#‎बच्चों‬ के ‪#‎कल्याण‬ के लिए काम करती हो, उनको शिक्षा देती हो, वहाँ जाके उन बच्चों का सम्पर्क कराए.

संस्था में वो पैसे दान न दे कर जो आप उन बच्चों को देते, उन्हें उनकी जरूरत की कुछ चीजें दिलवा दे जैसे की - ‪#‎भोजन‬ के सामान, ‪#‎कपड़ें‬ और किताबें इत्यादि।


सोशल मीडिया के प्रयोग कर आप अपने नजदीकी संस्थाओं से जुड़े सकते है।


No comments:

Post a Comment

कृपया अपने विचार कंमेंट बॉक्स में लिखें।