लॉकडाउन लाइफ


दुनिया उथल-पुथल में है और अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है। यह अब तक का सबसे बड़ा स्वैच्छिक लॉकडाउन  है जिसे हम सभी अपने जीवन में पहली बार अनुभव कर रहे हैं। न्यूज़ चैनलों द्वारा किया गया एक भ्रामक प्रचार, हमारे हेल्थकेअर सिस्टम का कमजोर बुनियादी ढांचा और लॉकडाउन सभी के लिए एक मानसिक त्रासदी के रूप में सामने आया। महामारी पर राजनीति अभी भी जारी है लेकिन दुनिया अब COVID19 को गंभीर खतरा नहीं मानती है।

सरकार की नाकामियों को छिपाने के लिए लॉकडाउन ड्रामा एक अच्छा बहाना है। इस स्तर पर अर्थव्यवस्था को कभी भी बुरी तरह से अस्थिर नहीं किया गया था। कोविद -19 महामारी का दुनिया भर के लोगों की आजीविका पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा है। अत्यधिक पुलिसिंग सिस्टम, महामारी को नियंत्रित करने के लिए बेवकूफियों से भरे प्रतिबंध, जरूरत से ज्यादा कानूनी हस्तक्षेप ने व्यावसायिक वातावरण को पूरी तरह से नष्ट कर दिया है और दुनिया भर में बड़े पैमाने पर नौकरियों खत्म हो चुकी हैं।

Covid19 वैक्सीन अभी लॉन्च होना बाकी है। शायद ड्रग गिरोह लॉन्च से पहले इस से ज्यादा से ज्यादा फायदे कमाने के कैलकुलेशन में व्यस्त हो लेकिन तथ्य यह है कि सभी चिकित्सा अनुसंधान संगठनों ने स्वीकार किया है कि उनका ज्यादातर परीक्षण त्रुटिपूर्ण और अनिर्णायक रहा है। देश की विशाल जनसंख्या को शिक्षित करके स्वास्थ्य उद्योग में क्रांति लाने का यह सही समय है। यह एक उपयुक्त वक्त है जब WHO, लॉबीस्ट्, हेल्थकेयर बाजार को चलाने वाले फ़ार्मास्युटिकल कंपनियाँ और मांस-डेयरी उद्योग का कच्चा चिट्ठा खोलना जरूरी है जो कि हमारी गरीब आबादी एवम निर्दोष जानवर की हत्या से पैसे कमाते हैं।

लॉकडाउन ने अधिकांश लोगों की खुशियाँ छीन ली है। कई लोगों का मानसिक स्वास्थ्य दिन-प्रतिदिन गिरता जा रहा है। हमें अब आत्मनिर्भर बनते हुए अपने जीवन को सही ट्रैक पर वापस लाने की आवश्यकता है। आइए मान लें कि हम इस नए बदले हुए परिवेश में अपना जीवन फिर से शुरू कर रहे हैं। टेक्नोलॉजी के लगातार उपयोग के साथ खुशहाल जीवन की ओर अग्रसर होने के लिए हमें अब बदले हुए वातावरण में प्यार, करुणा, सम्मान और विश्वास के विटामिन-सी की आवश्यकता है।

हर कोई अब हेल्थ और लाइफस्टाइल के लिए चिंता कर रहा है। गायों और अन्य जानवरों के मांस, मवाद से भरे दूध एवं अन्य डेयरी उत्पादों का सेवन बंद करने का यह सही समय है। इन मासूम जानवरों के दर्द को महसूस करने और अपने अंदर के दर्द को समाप्त करने के लिए खुद से कोई सवाल न करें। सैचुरेटेड फैट का सेवन ना करें क्योंकि ये आपके नसों के लिए बहुत ही हानिकारक है। सावधान रहें, यह आपके दिल के दौरे का कारण हो सकता है। फल-सब्जियों से भरपूर वीगन भोजन को अपनाएं और अपने शरीर में हर जगह उचित रक्त प्रवाह को संतुलित करें।

- सुदेश कुमार
 (वीगन लेखक)

No comments:

Post a Comment

कृपया अपने विचार कंमेंट बॉक्स में लिखें।